बागवानी की सफलता के मूल मंत्र जाने

0
1259

बागवानी की सफलता के मूल मंत्र अथवा कारक (components of successfull gardening )

दोस्तों हमारे जीवन में समुचित विकास के लिए फलों व सब्ज़ियों का खाद्य के रूप में बड़ा योगदान होता है ।फलों में कार्बोहाईड्रेट,वसा,प्रोटीन,व विटामिन्स,सेलुलोस,पैक्टिन व खनिज लवण प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं । जो हमारे शरीर के शारीरिक व मानसिक विकास के अति आवश्यक होते हैं । खाद्य विशेषज्ञों के अनुसार मनुष्य को प्रतिदिन २८३ ग्राम सब्ज़ी व ८५ ग्राम फल का प्रतिदिन उपयोग करना चाहिए । दैनिक जीवन से जुड़ी उपयोगिता का बाज़ार स्तर पर बढ़ती माँग को देखते हुए फलों,फूलों अथवा सब्ज़ियों की बाग़वानी करना एक लाभकारी सौदा है । बागवानी को लेकर आप इंटरनेट पर लगातार सर्च किया जाता रहा है जैसे – नयें बाग की स्थापना कैसे करें ? अमरूद का बाग़ कैसे लगाएँ ? लीची की बाग़वानी कैसे करें ? केले की खेती से कैसे लाखों कमाएँ ? Google Question hub में भी इस प्रकार के जानकारियाँ आप द्वारा माँगी गयी है । खेती किसानी डॉट ओर्ग आप को खेती बाड़ी से जुड़ी वैज्ञानिक व आधुनिक तकनीकी से लैस जानकारियाँ उपलब्ध कराता है ताकि आप कृषि से अधिक से अधिक लाभ प्राप्त कर सकें आज का आलेख बाग़वानी की शुरुआत कर रहे किसान भाइयों के दृष्टिगत है –

लीची की खेती (Litchi farming) वैज्ञानिक विधि से कैसे करें ? हिंदी में पूरी जानकारी

बागवानी की सफलता के मूल मंत्र अथवा कारक (components of gardening ) –

  • धरातल
  • जलवायु
  • मिट्टी
  • स्थान की स्थिति
  • सिंचाई व जल निकास प्रबंधन
  • कीट व रोग प्रबंधन
  • श्रमिकों का उपलब्धता
  • बाज़ार की स्थिति व यातायात की सुविधाएँ

साथियों हमें कमेंट के माध्यम से अवश्य बताएँ की यह आलेख आपको कैसा लगा ? इसके अलावा भी बाग़वानी से जुड़े बहुत से आलेख हैं । जिसे पढ़कर आप लाभ पा सकते हैं – जैसे बेल की खेती कैसे करें ? बेल की आधुनिक खेती के तरीक़े, फ़्रेंच चमेली की खेती कैसे करें ? आम के बाग में लगने वाले कीटों व रोगों के रोकथाम के उपाय

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.