फालसा फल की खेती | फालसा की बागवानी | Falsa Ki Kheti

0
553

फालसा को शरबत बेरी या छरबेरी भी कहते हैं। इसका वानस्पतिक नाम Grewia asiatica है। फालसा को भारतीय नस्ल का पेड़ ही माना गया है। इसे भारत, पाकिस्तान, नेपाल, लाओस, थाइलैंड और कम्बोडिया में भी उगाते हैं। ऑस्ट्रेलिया और फिलिपींस में इसे खरपतवार मानते हैं। फालसा तिलासिया परिवार का एक झाड़ीनुमा पेड़ है। तिलासिया परिवार में क़रीब 150 प्रजातियाँ हैं। लेकिन फल सिर्फ़ फालसा का ही खाया जाता है।

फालसा की खेती बहुत शुष्क या सूखापीड़ित या अनुपजाऊ क्षेत्रों के लिए बेहद उपयोगी है, क्योंकि इसके फल खासे महँगे बिकते हैं। फालसा का फल करीब एक सेंटीमीटर व्यास वाला गोलाकार होता है। कच्चे फालसा का रंग मटमैला लाल और जामुनी होता है। मई-जून में पूरी तरह पकने पर फालसा का रंग काला हो जाता है। इसका स्वाद खट्टा-मीठा या चटपटा होता है। फल में बीज पर गूदे की पतली परत होती है। फालसे की झाड़ी में काँटे नहीं होते। इन्हें हाथों से तोड़ते हैं। उपज के लिहाज़ से देखें तो फालसा के फल थोड़ी-थोड़ी मात्रा में ही पकते हैं। इन्हें हफ़्ते भर से ज़्यादा वक़्त के लिए बचा पाना मुश्किल होता है, क्योंकि ये जल्दी ख़राब होने लगते हैं। दुर्भाग्यवश, फालसे की खेती किसानों के बीच लोकप्रिय नहीं है, क्योंकि इसकी खेती के तरीकों के बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं। कुछ अध्ययन बताते हैं कि गोबर और खाद के उपयोग से इसकी उपज बढ़ाई जा सकती है। हालांकि इसके बावजूद एक पेड़ प्रतिवर्ष 10 किलो से अधिक उपज नहीं दे पाता। यह भी कहा जाता है कि उपज बढ़ाने के लिए पेड़ों की छंटाई की जानी चाहिए, लेकिन अधिकतम उपज पाने के लिए छंटाई की क्या हद होगी, इसका अध्ययन किया जाना बाकी है।

फालसा फल की व्यवसायिक खेती | फालसा की बागवानी – Falsa Ki Kheti – Phalsa Farming Business Hindi

फालसे की खेती को लोकप्रिय बनाया जा सकता है, क्योंकि इसके पौधे अनुपजाऊ मिट्टी में भी पनप सकते हैं। इसके पौधे सूखा रोधी होते हैं और अधिक तापमान पर भी जीवित रह सकते हैं। यह मिट्टी के कटाव को रोकने के साथ ही इसका उपयोग हवा के बहाव को बाधित करने के लिए भी किया जाता है। फालसा के पौधे की पतली शाखाओं का इस्तेमाल टोकरी बनाने में किया जा सकता है। इसकी छाल में एक चिपचिपा पदार्थ पाया जाता है, जिसका उपयोग गन्ने के रस को साफ करने के लिए किया जा सकता है, जिससे इस काम के लिए प्रयुक्त रसायनों के इस्तेमाल से बचा जा सके।

फालसा फल की खेती | फालसा की बागवानी | Falsa Ki Kheti
फालसा फल की खेती | फालसा की बागवानी | Falsa Ki Kheti

वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) के तहत इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंटीग्रेटिव मेडिसिन ने हाल ही में जम्मू क्षेत्र में फालसे के पेड़ों को उगाने की पहल शुरू की है, जिससे इस स्वादिष्ट फल को इस क्षेत्र से विलुप्त होने से बचाया जा सके। संस्थान ने फालसे से एक प्रकार का हेल्थ ड्रिंक बनाने की तकनीक विकसित की है, जिसे वैष्णो देवी मंदिर जाने के रास्ते में तीर्थयात्रियों को बेचा जा रहा है।

भारत में कहाँ होती है फालसा की खेती –

फालसा का फल पेड़ पर ही पकता है। इसके कच्चे फलों को भी कृत्रिम तरीक़े से नहीं पकाया जा सकता। कोल्ड स्टोरेज में भी इसे ज़्यादा दिनों के लिए रख नहीं सकते। इसीलिए फालसा की खेती बहुत लोकप्रिय नहीं है। इसकी खेती बहुत कम जगहों पर, वह भी बड़े शहरों के आसपास ही होती है। उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट्र और गुजरात में कई किसान फालसा की व्यावसायिक खेती भी करते हैं। फालसा हिमालयी क्षेत्रों में भी उगता है। वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसन्धान परिषद (CSIR) के तहत इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंटीग्रेटिव मेडिसिन ने हाल ही में जम्मू क्षेत्र में फालसे की खेती को प्रोत्साहित करने के काम को हाथ में लिया है। ताकि इस स्वादिष्ट फल को उस क्षेत्र से विलुप्त होने से बचाया जा सके। संस्थान ने फालसा से बने एक हेल्थ ड्रिंक बनाने की तकनीक भी विकसित की है। इसे वैष्णो देवी के श्रद्धालुओं को बेचा भी जा रहा है।

असिंचिंत क्षेत्र के वरदान है फालसा की खेती –

इसीलिए फालसा की व्यावसायिक खेती को यदि फूड प्रोसेसिंग (खाद्य प्रसंस्करण) की तकनीक से जोड़कर टिकाऊ बना लिया जाए जो असिंचित क्षेत्रों के किसानों के लिए ये फालसा वरदान बन सकता है, क्योंकि इसके पौधे अनुपजाऊ, खराब, घटिया, पथरीली या बंजर मिट्टी में भी पनप सकते हैं। फालसा सूखा रोधी होते हैं। इन पर प्रतिकूल मौसम का बहुत कम असर पड़ता है। ये 44-45 डिग्री सेल्सियस का तापमान भी आसानी से बर्दाश्त कर लेते हैं। इसीलिए इसे आपदा में आसरा की तरह भी देखा जाना चाहिए। यदि सही तरीक़े से फालसा की व्यावसायिक खेती की जाए तो इसकी लागत बहुत कम है और कमाई बहुत बढ़िया।

फालसा का फल सेहत के गुणों की खान है –

फालसा औषधीय गुणों से भरपूर है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट, कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस साइट्रिक एसिड, अमीनों एसिड समेत विटामिन ‘ए’, ‘बी’ और ‘सी’ पाये जाते हैं। गर्मियों में फालसा को कच्चा खाने या इसका शरबत पीने से ठंडक का अहसास होता है। ज़्यादा पका हुआ फालसा शरबत के लिए बेहतरीन होता है। इसके स्वाद के क़ायल लोग इसके कठोर बीजों को भी चबा जाते हैं। इसके बीजों में लिनोलेनिक ऐसिड होता है, जो मनुष्य के शरीर के लिए बेहद उपयोगी है।
इसे भी पढ़ें – मधुमक्खी पालन कैसे करें | मधुमक्खी पालन की पूरी जानकारी
चिलचिताती गर्मी में फालसा का शरबत लू लगने और त्वचा को झुलसने से बचाता है। लू लगने पर आये बुखार में ये शानदार उपचार का काम करता है। बुख़ार, ह्रदय रोग, कैंसर, पेट की बीमारियों, ब्लड प्रेशर, मूत्र विकार, डायबिटीज़, दिमाग़ी कमज़ोरी और सूजन से पीड़ित मरीज़ों के लिए भी फालसा बेहद फ़ायदेमन्द है। मधुमेह के रोगियों में फालसा ख़ून में शर्करा की मात्रा को नियंत्रित करता है और विकिरण के दुष्प्रभावों के मामले में भी बहुत राहत देता है। फालसा के फल बहुत नाजुक होते हैं। इन्हें आसानी से लम्बी दूरी तक नहीं ले जा सकते। लिहाज़ा, इसकी पैदावार बड़े शहरों आसपास ही सिमटकर रह जाती है।
इसे भी पढ़ें – आम की खेती : आम की बागवानी की जानकारी – Mango farming in hindi
फालसा के बीजों से भी तेल और दवाईयाँ बनती हैं तो फलों से स्क्वैश, जेम, चटनी, अचार और मिठाई वग़ैरह बनाया जाता है। फालसा की पतली टहनियों का टोकरियाँ बनाने और अंगूर की बेल चढ़ाने के लिए जाल बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। फालसा की जड़ें मिट्टी के कटाव को भी रोकने में मददगार साबित होती हैं ।गर्मी का मौसम आते ही जगह-जगह फालसे के ठेले खड़े मिल जाते हैं।यह फल देखने में बहुत छोटा होता है। पकी अवस्था में फालसे बैंगनी या लाल रंग के और खट्टे मीठे होते हैं। ये फल खाने में जितना स्वादिष्ट है, उतना ही यह अनगिनत गुणों से भरपूर है।इसे खाने से न केवल बुखार ठीक हो जाता है, बल्कि यह फल पुरुषों में लो स्पर्म काउंट की समस्या को दूर करने के लिए भी बहुत फायदेमंद है। फालसा न केवल कमजोरी दूर करने वाला टॉनिक है, बल्कि लू से भी बचाता है। यही वजह है कि फालसा को कई बीमारियों के लिए औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। मानव शरीर में ये नेचुरल कूलिंग एजेंट के रूप में काम करता है, इसलिए गर्मियों में शरीर में ठंडक बनाए रखने के लिए इसका सेवन करने की सलाह दी जाती है।

फालसा खेती के लिए जलवायु व तापमान Climate –

फालसा का पौधा सूखा-सहिष्णु है । लेकिन कभी-कभी फलने-फूलने के मौसम में और सूखे समय में सिंचाई करना उत्पादकों के लिए लाभदायक होता है। फालसा संयंत्र फलने के दौरान गर्म और शुष्क वातावरण पसंद करता है। सर्दियों के मौसम में, यह निष्क्रिय हो जाता है और इसकी पत्तियों को बहा देता है। यह मार्च में फिर से शुरू होता है। जून का उच्च तापमान फलों को पकने में मदद करता है । फालसा रोपण अच्छी तरह से परिवर्तनशील जलवायु परिस्थितियों में पनपता है, इसे ठंडे तापमान से सुरक्षा की आवश्यकता होती है। आमतौर पर फल पकने के लिए पर्याप्त धूप और गर्म या गर्म तापमान की आवश्यकता होती है, उपयुक्त फलों के रंग का विकास, और खाने की अच्छी गुणवत्ता। फालसा सबसे अच्छा फसल विकास, उपज, और गुणवत्ता के लिए अलग-अलग सर्दियों और गर्मियों को याद करता है। सर्दी न होने वाले क्षेत्रों में, फालसा का पौधा पत्तियों को नहीं बढ़ाता है और । एक से अधिक बार फूल पैदा करता है, जिससे खराब गुणवत्ता वाले फल मिलते हैं। फालसा के पौधे तापमान को 44 ° C तक सहन कर सकते हैं। फलों के विकास के दौरान उच्च तापमान का स्तर फलों के पकने का पक्षधर है।

फालसा की खेती के लिए मिट्टी की आवश्यकता –

इसकी मिट्टी की आवश्यकता के लिए यह उपवास नहीं है। इसे आसानी से खराब मिट्टी पर उगाया जा सकता है। दोमट मिट्टी को सबसे अच्छा माना जाता है और यह अल्प सिंचाई परिस्थितियों में अच्छी वृद्धि करती है। उचित मिट्टी की निकासी एक और कारक है जिसे ध्यान में रखा जाना चाहिए। हालाँकि, ऐसी मिट्टी जहाँ पानी बरसात के मौसम में कई दिनों तक रुकता है या जिनकी उप-सतह जल निकासी खराब होती है और जल-जमाव को फालसा की व्यावसायिक खेती के लिए नहीं चुना जाना चाहिए। फल के शीघ्र विपणन की सुविधा के लिए शहर के बाजारों के करीब सीमांत भूमि में फालसा उगाया जाता है।

फालसा की किस्में-

फालसा में औषधीय गुण भले हों लेकिन इस जंगली झाड़ीनुमा पेड़ की देश में कोई ख़ास और मान्यता प्राप्त किस्में नहीं हैं। अलबत्ता, फालसा को दो किस्में – देसी और शरबती मशहूर हैं। इनमें से शरबती किस्म पर ज़्यादा फल लगते हैं और इसमें रस भी अधिक होता है।फालसा की विभिन्न किस्में Different लंबे समय तक उगने वाले जंगली फालसा के पौधे में एसिड वाले फल होते हैं जो दोबारा नहीं लगते हैं। सबसे अच्छे फलों में मीठे-और-अम्ल के मिश्रण के साथ बौना, झाड़ीदार प्रकार के पौधों की खेती की जाती है। फालसा फसल की कोई मान्यता प्राप्त किस्म नहीं है, लेकिन अलग-अलग क्षेत्रों के लिए स्थानीय पसंदीदा हैं। हरियाणा के हिसार क्षेत्र में, फालसा की दो स्थानीय किस्में यानि लंबा और छोटा उगाया जाता है। बौनी फालसा किस्म लम्बे किस्म की तुलना में अधिक उत्पादक है। बौनी फालसा किस्म में उच्च शर्करा और गैर-कम करने वाली शर्करा होती है जबकि लंबी किस्म में चीनी को कम करने की अधिक मात्रा होती है। दोनों का बीज प्रोटीन अलग-अलग होता है। कानपुर क्षेत्र में, स्थानीय और शरबती नामक दो फालसा किस्में उगाई जाती हैं।

फालसा फार्मिंग में इंटरक्रॉपिंग – Phalsa Farming Business Hindi –

फालसा की फसल को आम, अमरूद के बाग़ में सह फसल के तौर पर या अन्य फसलों के साथ भी उगा सकते हैं। इसे बेल के बाग़ों में खाली जगहों को भरने के लिए भी उगाते हैं। फालसा की व्यावसायिक खेती के लिए इसके पौधों को कटिंग और ग्राफ़्टिंग विधि से तैयार करते हैं। जनवरी-फ़रवरी में इसकी रोपाई करते हैं। रोपाई के वक़्त गोबर की खाद का इस्तेमाल पौधों को शुरुआती पोषण देने में मददगार साबित होता है। फल की कटाई के बाद फालसा के पेड़ सूखे की स्थिति को काफी अच्छी तरह से सहन कर सकते हैं। ज्यादा फल प्राप्त करने के लिए इसे अप्रैल से जून तक 20 दिनों के अंतराल पर सिंचाई की आवश्यकता होती है। बरसात के मौसम और सुस्ती में कोई सिंचाई नहीं की जा सकती है। फालसा का पेड़ सूखे का सामना कर सकता है और अन्य फलों के पेड़ों की तरह अक्सर सिंचाई की मांग नहीं करता है। विशेष रूप से फूलों और फलने की अवधि के दौरान नियमित अंतराल पर सिंचाई के पानी की पर्याप्त आपूर्ति योजनाओं के बेहतर स्वास्थ्य और अधिक लाभदायक पैदावार सुनिश्चित करने के लिए एक लंबा रास्ता तय कर सकती है। सिंचाई का समय और मात्रा पौधों की मिट्टी, जलवायु, वर्षा और उम्र के अनुसार बहुत भिन्न होती है। आमतौर पर, गर्मियों में हर 15 से 20 दिनों में एक सिंचाई (बारिश के दौरान छोड़कर) और सर्दियों में हर 4-6 सप्ताह में एक बार पर्याप्त माना जाता है जामुन के विकास के समय में फालसा के पौधों को पर्याप्त मात्रा में सिंचाई करने से वे आकार और रसदार हो जाएंगे।

फालसा खेती के लिए बीज की बुवाई –

फालसा के पेड़ को आमतौर पर बीज के माध्यम से प्रचारित किया जाता है। बोल्ड सीड्स जुलाई के दौरान 90% अंकुरण देते हैं। उभरे हुए बिस्तरों पर बीज को 2 सेंटीमीटर गहरी 10 सेंटीमीटर की दूरी पर बोएं। बीज से बीज की दूरी 2 सेमी होनी चाहिए। रेत + F.Y.M 50: 50 अनुपात के मिश्रण के साथ बीज को कवर करें। फिर, बुवाई के तुरंत बाद पानी छिड़कें। सीडबेड्स की बाढ़ से बचें, विफल होने पर कौन से जड़ सड़न कवक पाइथियम प्रकट हो सकते हैं। बीज अंकुरित होने के बाद 1% बाविस्टिन घोल लगायें। सफेद चींटियों के हमले की जांच करने के लिए बीज बुवाई के 30 दिनों के बाद पानी के l0ml / L द्वारा Dursban 20EC का घोल लगाएँ। जनवरी में रोपाई के लिए सीडिंग तैयार हो जाती है।

फालसा की रोपाई व देखभाल

फालसा को कई विधियों जैसे बीज, कटिंग, ग्राफ्टिंग और लेयरिंग द्वारा किया जाता है लेकिन बीज प्रसार फालसा के गुणन की सबसे लोकप्रिय विधि है।
आमतौर पर, फालसा पौधों बीज द्वारा लगाया जाता है लेकिन पौधे को दृढ़ लकड़ी के कटाई के साथ-साथ लेयरिंग द्वारा आसानी से लगाया जा सकता है अंकुर रोपण से लगभग 12 से 15 महीने पहले अच्छी तरह से विकसित फलों की पहली फसल का उत्पादन करते हैं। फालसा के पौधों की रोपाई से पहले कृषि विशेषज्ञों की सलाह ज़रूरी लेनी चाहिए।एक एकड़ में इसके 1200-1500 पौधे लगाए जा सकते हैं।फालसा के खेतों को ज़्यादा देख-रेख की ज़रूरत नहीं पड़ती, लेकिन पेड़ की गुणवत्ता के लिए उसकी सालाना कटाई-छँटाई ज़रूरी करनी चाहिए।पौधों की ग्रोथ के लिए, तीन महीने में एक बार दो किलो “मल्टीप्लायर” ड्रेंचिंग पद्धति से देना है। 16 लीटर के पंप में “मल्टीप्लायर” 15 मिली, “कृष्णा ऑल क्लीयर” 02 मिली, और “कृष्णा स्प्रे प्लस” 01 मिली मिलाकर, पौधों की फ़ास्ट ग्रोथ के लिए छिड़काव करें। फालसा के बीजों की बीजोपचार प्रक्रिया करनी है, एक किलो बीज में पाँच ग्राम “मल्टीप्लायर” तथा थोड़ा सा पानी मिलाकर हिलाने से सभी बीज काले-काले दिखने लगेंगे, छाँव में सुखाकर बुवाई कर सकते हैं।
इसे भी पढ़ें – अनार की उन्नत बागवानी की तकनीक (Pomegranate Gardening)
अगर काड़ी लगा रहे हों तब “मल्टीप्लायर” के घोल में डुबाकर लगाएँ। बीज या काड़ी लगाने के तुरंत बाद 200 लीटर पानी में एक किलो “मल्टीप्लायर” मिलाकर, एक लीटर पानी बीज या काड़ी के चारो तरफ़ की मिट्टी पर डालें। पहले साल पौधों को पानी देना आवश्यक है, दूसरे साल से पौधों को पानी देना ज़रूरी नहीं है। ज़्यादा उत्पादन के लिए जनवरी से मई तक पानी देने से उत्पादन बढ़कर मिलता है। जिस खेत में पानी नहीं देना हो, उस खेत में “रासायनिक खाद” का एक दाना भी ना डालें। फालसा की खेती पहले दिन से ऑर्गेनिक की जा सकती है, मतलब “मल्टीप्लायर ऑर्गेनिक तकनीक” से बेहतर उत्पादन ले सकते हैं। उत्पादन देने वाले पौधों को, जनवरी से मार्च तक हर महीने प्रति एकड़ दो किलो “मल्टीप्लायर” ड्रेंचिंग पद्धति से देना है। उत्पादन हारवेस्टिंग हो जाने के बाद पौधों की छँटाई ज़रूर करें, पौधों की ऊँचाई चार या पाँच फुट तक सीमित रखने से उत्पादन अच्छा मिलता है।

Planting Process in Phalsa Framing –

फालसा के पौधे जुलाई- अगस्त या फरवरी- मार्च के दौरान लगाए जा सकते हैं जब पौधे अपनी पत्तियां बहा देते हैं। रोपण के लिए लगभग 8 से 12 महीने पुराने अंकुर बेहतर हैं। आमतौर पर रोपण 2.5 से 3.0 मीटर के अलावा दोनों तरीकों से किया जाता है, जिसमें प्रति हेक्टेयर लगभग 1100 -1500 पौधे लगाए जाते है Phalsa संयंत्र अच्छी तरह से बंद रोपण (घनत्व बागों) के लिए अनुकूल है। पौधे की आबादी बढ़ाने के लिए फालसा के पौधों में युग्मित पंक्ति (डबल रो) रोपण प्रणाली की कोशिश की जा सकती है। बढ़ी हुई जनसंख्या के कारण कुल उपज में 20-30% की वृद्धि होती है। एन, पी, और के द्वारा क्रमशः 100, 40 और 25 किग्रा / हेक्टेयर की दर से डाली जनि चाहिए । सूक्ष्म पोषक तत्वों में जिंक और आयरन फलों के आकार और रस को प्रभावित करते हैं।

जनवरी में तैयार किए गए गड्ढों में नंगे जड़ वाले स्वस्थ अंकुर को प्रत्यारोपण करें। आम तौर पर, रोपण 1.0 x 1.5 मीटर लाइनों में अलग-अलग किया जाता है। वास्तविक रोपण के एक महीने पहले आकार के 0.5 मीटर गहरे गड्ढे और एक ही व्यास तैयार किया जाता है। रोपण के बाद पौधे की जड़ों के आसपास की मिट्टी को बसाने के लिए हल्की सिंचाई की जाती है। सीडलिंग को सीडबेड से अच्छी तरह से तैयार किए गए गड्डो में प्रत्यारोपित किया जाता है जब एक वर्ष पुराना होता है और आमतौर पर इसके बारे में 3-4.5 मीटर तक फैला जाता है, हालांकि कुछ प्रयोगों ने कटाई में दक्षता को अधिकतम करने के लिए 1.8 x 1.8 m या 2.4 x 2.4 मीटर किया जाता है करीब 13 से 15 महीने में फलने शुरू हो जाएंगे। लगभग 0.9-1.2 मीटर की ऊंचाई तक वार्षिक छंटाई नई शूटिंग और अधिक कठोर ट्रिमिंग से बेहतर पैदावार को प्रोत्साहित करती है। 10 पीपीएम जिबरेलिक एसिड के स्प्रे ने फल-सेट में वृद्धि की है और 40 पीपीएम पर, फलों के आकार में वृद्धि हुई है लेकिन फल-सेट में कमी आई है।

फालसा की खेती में खाद और खाद की आवश्यकता – Manuring and Fertilization Requirement in Phalsa Farming-

जनवरी में छंटाई के बाद प्रत्येक बुश को 5kg FYM (खेत की खाद) लगायें। उम्र के आधार पर झाड़ियों को 50 से 100 ग्राम यूरिया दो भागों में यानी मार्च और अप्रैल के दौरान लगाया जा सकता है। एक उच्च नाइट्रोजन खुराक से प्रफुल्ल शूट विकास होता है जो अच्छे फलने के लिए वांछनीय नहीं है। जब झाड़ियाँ 4 साल की हो जाती हैं, तो खुराक को विभाजित खुराक में 200 ग्राम तक बढ़ा देती हैं। मार्च में l00gm लागू करें और अप्रैल के महीने में l00g आराम करें।

फालसा खेती में सिंचाई की आवश्यकता – Irrigation Requirement in Phalsa Farming –

फल की कटाई के बाद फालसा के पेड़ सूखे की स्थिति को काफी अच्छी तरह से सहन कर सकते हैं। उच्च फल प्राप्त करने के लिए इसे अप्रैल से जून तक 20 दिनों के अंतराल पर सिंचाई की आवश्यकता होती है। बरसात के मौसम और सुस्ती में कोई सिंचाई नहीं की जा सकती है।फालसा का पेड़ सूखे का सामना कर सकता है और अन्य फलों के पेड़ों की तरह अक्सर सिंचाई की मांग नहीं करता है।
इसे भी पढ़ें – संतरे की खेती की उन्नत खेती Advanced Orange Farming
विशेष रूप से फूलों और फलने की अवधि के दौरान नियमित अंतराल पर सिंचाई के पानी की पर्याप्त आपूर्ति योजनाओं के बेहतर स्वास्थ्य और अधिक लाभदायक पैदावार सुनिश्चित करने के लिए एक लंबा रास्ता तय कर सकती है।सिंचाई का समय और मात्रा पौधों की मिट्टी, जलवायु, वर्षा और उम्र के अनुसार बहुत भिन्न होती है। आमतौर पर, गर्मियों में हर 15 से 20 दिनों में एक सिंचाई (बारिश के दौरान छोड़कर) और सर्दियों में हर 4-6 सप्ताह में एक बार पर्याप्त माना जाता है। जामुन के विकास के समय में फालसा के पौधों को पर्याप्त मात्रा में सिंचाई करने से वे आकार और रसदार हो जाएंगे।

फालसा खेती में खरपतवार नियंत्रण –

फालसा के पेड़ को दो कुल्हाड़ियों की आवश्यकता होती है। एक जनवरी में पेड़ की छंटाई के बाद और दूसरा अप्रैल-मई में। यदि बरसात के मौसम में खरपतवार की तीव्रता बढ़ जाती है, तो ग्रामोक्सोन को 6-7ml / L पानी के साथ रोपण के खाली स्थानों पर स्प्रे करें जो कि हेड सिस्टम पर प्रशिक्षित हैं। हालांकि, झाड़ी प्रशिक्षित पौधों में किसी भी शाकनाशी का छिड़काव नहीं किया जाता है, और पत्ते की छाया खरपतवार के विकास पर नज़र रखती है।
फालसा फार्मिंग में कीट और रोग प्रबंधन

फालसा की खेती फसल सुरक्षा प्रबंधन –

फालसा की खेती में लगने वाले कीट व नियंत्रण – Pests Management in Phalsa Farming –

माइलबग –

मैंगो मेबबग से फालसा फसल को गंभीर नुकसान होने की सूचना मिली है। फिर, इस कीट के हमले से फलों का सेट बुरी तरह प्रभावित होता है। इसे 0.04% डायज़िनॉन या मोनोक्रोटोफ़ॉस के साथ छिड़काव करके नियंत्रित किया जाता है।

छाल खाने वाला कैटरपिलर –

यह एक पॉलीफैगस कीट है जो मुख्य शाखाओं या ट्रंक में सुरंग बनाकर फालसा के पौधे को नुकसान पहुंचाता है। मिट्टी से मुंह बंद करके छिद्रों में मिट्टी का तेल या पेट्रोल इंजेक्ट करके इसे नियंत्रित किया जाता है।

फालसा की खेती में लगने वाले रोग व नियंत्रण – Diseases Management in Phalsa Farming –

लीफ स्पॉट डिजीज –

यह पौधे की बीमारी बारिश के मौसम में आम है। प्रभावित पत्तियां छोटे भूरे रंग के घाव पत्तियों के दोनों किनारों पर दिखाई देते हैं। इसे डिथेन जेड- 78 को 0.3% एकाग्रता में या ब्लिटॉक्स को 0.2% एकाग्रता में छिड़काव करके नियंत्रित किया जा सकता है।

रस्ट –

यह रोग फालसा फसल में दस्तुरेल्ला ग्रोथिया के कारण होता है। इन रोगों के लक्षण हल्के भूरे रंग के धब्बे होते हैं जो संक्रमण के परिणामस्वरूप पत्तियों के निचले हिस्से में विकसित होते हैं। इससे पौधे के पत्तों की सड़न होती है। 15 दिनों के अंतराल पर DM -45 (0.3%) और सल्फेक्स (0.2%) के वैकल्पिक स्प्रे प्रभावी रूप से रस्ट रोग को नियंत्रित करते हैं।

पाउडी मिल्ड्यू –

यह पत्तियों पर एक पाउडर पैटीना के रूप में होता है और एक कवक है। इस बीमारी से बचने के लिए फाल्सा के पौधों को फफूंदनाशक दवा से स्प्रे करें और ओवरहेड वॉटरिंग से बचें। दो उपचारों को लागू करना, एक सर्दियों के मौसम में और दूसरा शुरुआती वसंत के मौसम में भी मदद कर सकता है। साथ ही, स्वस्थ पौधों को बीमारी के प्रसार से बचने के लिए प्रभावित भागों को काटना और निपटाना होगा।

फालसा के पेड़ में ज्यादा रोग भी नहीं लगते। लेकिन तना छेदक कीड़े की इल्ली से फालसा के तना और शाखाओं खोखली हो जाती हैं। ये कीड़े पेड़ में मौजूद ‘कैंबियम’ को खाते हैं। इस रोग से पीड़ित होने पर कीटों के प्रभाव वाले छेद में केरोसिन या पेट्रोल डालना चाहिए और फ़ौरन कृषि विशेषज्ञों से सलाह लेनी चाहिए।

फालसा के फ़ालों की तुड़ाई-

चयनित खेती और बढ़ते पदों के आधार पर, जून, जुलाई और अगस्त में फलों की कटाई की जाती है। फूल आने के 40 से 45 दिनों के बाद फल पकने लगते हैं। कटाई के लिए, हैंडपैकिंग को लगाया जाता है। फालसा में कटाई की अवधि जून के पहले सप्ताह तक जारी रहती है। फालसा फल अत्यधिक हानिकारक होते हैं और इनसे होने वाले नुकसान से बचने के लिए अत्यधिक सावधानी बरतनी चाहिए। साधारण परिस्थिति में फालसा का उत्पादन दो साल में शुरू होता है ।”मल्टीप्लायर ऑर्गेनिक तकनीक” के इस्तेमाल से उत्पादन जल्दी मिलता है। पौधों की रोपाई के क़रीब सवा साल बाद, यानी अगले साल मई-जून के बाद से सालाना उपज मिलने लगती है। पकी अवस्था में फालसे बैंगनी या लाल रंग के और खट्टे मीठे होते हैं। फालसा के झाड़ीदार पेड़ों की ऊँचाई 4-5 फ़ीट तक रखने से उपज बेहतर मिलती है।

फालसा की खेती से प्राप्त उपज –

इससे 50-60 क्विंटल फालसा की पैदावार होती है। फालसा का दाम अन्य फलों से बेहतर मिलता है, इसीलिए ये बढ़िया मुनाफ़े की खेती है। वैसे तो फालसा को सीधे बाज़ार में बेचना भी लाभदायक है, लेकिन यदि फालसा से जुड़े उत्पाद बनाने वाली कम्पनियों के साथ तालमेल बिठाकर इसकी खेती की जाए तो पिछड़े इलाकों में रहने वाले किसानों की किस्मत चमक सकती है।

फालसा के फलों का भंडारण और मार्केटिंग –

फालसा फल अत्यधिक खराब होते हैं और, इनका उपयोग कटाई के 24 घंटों के भीतर किया जाना चाहिए। रेफ्रिजरेटर में लगभग एक या दो सप्ताह के लिए फालसा फलों को संग्रहीत किया जा सकता है। फलों का तत्काल विपणन केवल तभी संभव है जब बाग कुछ शहरों के पास स्थित हों। पके फालसा फल स्वाद में उप-अम्लीय होते हैं और विटामिन ए और विटामिन सी का अच्छा स्रोत होते हैं। फालसा फल रस और स्क्वैश बनाने के लिए उत्कृष्ट हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.