26 C
Lucknow
Saturday, December 5, 2020
Home KRISHI PANCHANG मछली पालन कैसे करें ? मासिक पंचांग कैलेण्डर देखें (calender for fish...

मछली पालन कैसे करें ? मासिक पंचांग कैलेण्डर देखें (calender for fish farming)

मछली पालन कैसे करें ? पालन हेतु मासिक पंचांग/कैलेण्डर हिंदी में देखें,How to  do fish farming ; View monthly almanac / calendar in Hindi

calender for fish farming
calender for fish farming

मत्स्य पालन हेतु मासिक पंचांग/कैलेण्डर (calender for fish farming)

  1. प्रथम त्रैमास (अप्रैल, मई व जून)
  • उपयुक्त तालाब का चुनाव।
  • नये तालाब के निर्माण हेतु उपयुक्त स्थल का चयन।
  • मिट्टी पानी की जांच।
  • तालाब सुधार/निर्माण हेतु मत्स्य पालक विकास अभिकरणों के माध्यम से तकनीकी व आर्थिक सहयोग लेते हुए तालाब सुधार/निर्माण कार्य की पूर्णता।
  • अवांछनीय जलीय वनस्पतियों की सफाई कर calender for fish farming के अनुसार machli palan से लाभ कमाएँ
  • एक मीटर पानी की गहराई वाले एक हेक्टेयर के तालब में 25 कुन्तल महुआ की खली के प्रयोग के द्वारा अथवा बार-बार जाल चलवाकर अवांछनीय मछलियों की निकासी।
  • उर्वरा शक्ति की वृद्धि हेतु 250 कि०ग्रा०/हे० चूना तथा सामान्यत: 10 से 20 कुन्तल/हेक्टे०/मास गोबर की खाद का प्रयोग।
  1. द्वितीय त्रैमास (जुलाई, अगस्त एवं सितम्बर,)
  • मत्स्य बीज संचय के पूर्व पानी की जांच (पी-एच 7.5 से 8.0 व घुलित आक्सीजन 5 मि०ग्रा०/लीटर होनी चाहिए)
  • तालाब में 25 से 50 मि०मी० आकार के 10,000 से 15,000 मत्स्य बीज का संचय,calender for fish farming के अनुसार करें
  • पानी में उपलब्ध प्राकृतिक भोजन की जांच।
  • गोबर की खाद के प्रयोग के 15 दिन बाद सामान्यत: 49 कि०ग्रा०/हे०/मास की दर से एन०पी०के० खादों (यूरिया 20 कि०ग्रा०, सिंगिल सुपर फास्फेट 25 कि०ग्रा०, म्यूरेट आफ पोटाश 4 कि०ग्रा०) का प्रयोग।
  1. तृतीय त्रैमास (अक्टूबर, नवम्बर एवं दिसम्बर)
  • मछलियों की वृद्धि दर की जांच। calender for fish farming देखें
  •  रोग की रोकथाम हेतु सीफेक्स का प्रयोग अथवा रोग ग्रस्त मछलियों को पोटेशियम परमैगनेट या नमक के घोल में डालकर पुन: तालाब में छोड़ना।
  • पानी में प्राकृतिक भोजन की जांच।
  • पूरक आहार दिया जाना।
  • ग्रास कार्प मछली के लिए जलीय वनस्पतियों (लेमरा, हाइड्रिला, नाजाज, सिरेटोजाइलम आदि) का प्रयोग।
  • उर्वरकों का प्रयोग।
  1. चतुर्थ त्रैमास (जनवरी, फरवरी एवं मार्च)
  • बड़ी मछलियों की निकासी एवं विक्रय।
  • बैंक के ऋण किस्त की अदायगी।
  • एक हेक्टेयर के तालाब में कामन कार्प मछली के लगभग 1500 बीज का संचय
  • पूरक आहार दिया जाना।
  • उर्वरकों का प्रयोग |
Kheti Gurujihttps://khetikisani.org
खेती किसानी - Kheti किसानी - #1 Agriculture Website in Hindi

Most Popular

सरसों की खेती का मॉडर्न तरीका

सरसों की खेती ( sarso ki kheti ) का तिलहनी फसलों में बड़ा स्थान है । तेल उत्पादन का एक बड़ा हिस्सा सरसों वर्गीय...

भिंडी की जैविक खेती कैसे करें

भिंडी की खेती (bhindi ki kheti ) पूरे देश मे की जाती है। भिंडी की मांग पूरे साल रहती है । और ऑफ सीजन...

101 सब्जियों के हिंदी और अंग्रेजी में नाम 101 Vegetables Name

101 सब्जियों के हिंदी और अंग्रेजी में नाम 101 Vegetables Name in Hindi and english शायद ही आपने सुना होगा । आज खेती किसानी...

लाल भिंडी की उन्नत खेती (Lal Bhindi Ki Kheti)

Lal Bhindi Ki Kheti - Red Okra Lady Finger Farming - Okra Red Burgundy लाल भिंडी की खेती (Lal Bhindi Ki Kheti) की शुरुआत...

Recent Comments

%d bloggers like this: