Gardening Tips : अगर घर में स्पेस कम है तो अपनाएं ये गार्डनिंग टिप्स

0
442

होम गार्डन टिप्स : सब्जियों से लेकर फूल उगाने तक ये 5 टिप्स आएंगे आपके बहुत काम | Home Garden tips in hindi

अगर आप भी चाहती हैं कि आप अपने गार्डन की केयर प्रोफेशनल गार्डनर की तरह करें तो इन टिप्स को जरूर आजमाएं। कम स्पेस वाले घरों के लिए ये टिप्स बहुत काम से…

Gardening Tips : अगर घर में स्पेस कम है तो अपनाएं ये गार्डनिंग टिप्स 1
Home garden tips in hindi

बागबानी का शौक कई लोगों को होता है, लेकिन उसे कर पाना आसान नहीं। खास तौर पर अगर आप छोटी स्पेस में रहती हैं। अगर आपके फ्लैट में थोड़ी सी एक्स्ट्रा जगह है और आप बालकनी या छत पर छोटा सा गार्डन तैयार करना चाहती हैं तो कुछ खास टिप्स आपके काम आ सकती हैं। गार्डनिंग की सबसे अहम बात ये होती है कि उसमें आपको क्या लगाना है इसका बहुत ख्याल रखना होता है। बालकनी जैसी छोटी स्पेस में अगर आप गार्डनिंग कर रही हैं तो बेल नुमा पौधे, सब्जियां, फूल और साथ ही साथ छोटे गमलों में लग जाने वाली चीज़ें बहुत अच्छी साबित हो सकती हैं। तो अब आप भी जान लीजिए वो पांच टिप्स जो आपके काम आ सकती हैं।

1. गमले की मिट्टी को करें लूज़-

आपने देखा होगा कि माली आकर घर के गार्डन में पेड़ों या गमलों की मिट्टी की खुदाई करता है। किसी खुरपा (गार्डनिंग टूल) की मदद से ऊपरी हिस्से की मिट्टी को थोड़ा सा लूज कर देते हैं। यानी अगर मिट्टी पूरी तरह से जम गई है तो उसे थोड़ा सा खोदना है। इससे रूट्स तक एयर और ऑक्सीजन पहुंचने में मदद मिलेगी। पर ध्यान रहे कि इनडोर प्लांट्स की रूट्स बहुत नाजुक होती हैं तो ये बहुत जोर से न करें वर्ना पौधे को नुकसान पहुंच सकता है।

2. पौधों की ट्रिमिंग जरूरी है-

जिस तरह बालों की ट्रिमिंग से बालों की ग्रोथ की गुंजाइश ज्यादा हो जाती है उसी तरह पौधों के साथ भी होता है। पौधों की ट्रिमिंग बहुत जरूरी है जिससे उनमें साइड ग्रोथ हो। कोई झाड़ियों वाला पौधा हो जैसे तुलसी तो उसके लिए ट्रिमिंग बहुत ही जरूरी हो जाती है। अगर आपके पौधे में लंबे समय से कोई ग्रोथ नहीं दिख रही है तो इसे फौरन करें। इसे भी आप 30-45 दिन  में एक बार कर सकती हैं।

3. बेल नुमा पौधों का रखें इस तरह से ख्याल-

अगर आपने घर में बेल नुमा पौधे लगा रखे हैं और खास तौर पर बेल वाली सब्जियां जैसे खीरा, तुरई, लौकी आदि को घर पर लगाया है तो आपको ये कोशिश करनी होगी कि बेल वर्टिकल ग्रो करे। बेल को वर्टिकल ग्रो करने के लिए आप उसकी सभी साइड ग्रोथ को ट्रिम कर दें। उदाहरण के तौर पर सब्जियों और फलों के पौधों में फ्रूट फ्लावर के बगल से कुछ पत्तियां भी उगने लगती हैं। इन्हें काट दें। इससे पौधे को मिलने वाला सारा पोषण सीधे मेन स्टेम में ही जाएगा जिससे सब्जियां उगेंगी। पर ऐसा करते समय ध्यान रहे कि कहीं आप गलती से फ्रूट फ्लावर को न काट दें। फ्रूट फ्लावर से ही आगे चलकर सब्जियां उगती हैं।

अगर एयर प्यूरिफाइंग प्लांट्स या फिर शो के लिए लगाए जाने वाले प्लांट्स हैं तो उनकी ट्रिमिंग के लिए सभी ब्राउन पत्तियों को काट दीजिए।

4. घर के अंदर लगाए जाने वाले पौधों में ऐसे डालें फर्टिलाइजर-

अगर आपके पास आउटडोर गार्डन है तब तो 1-2 महीने में फर्टिलाइजर डालना चलता है, लेकिन कम स्पेस में उगाए गए इनडोर प्लांट्स को ज्यादा फर्टिलाइजर की जरूरत होती है। इनडोर प्लांट्स में आप हमेशा मिट्टी को लूज करने के बाद ही फर्टिलाइजर डालें। हर 20-30 दिनों में ये काम करें। फर्टिलाइजर की मात्रा बहुत ज्यादा न लें, ये गमले के साइज के हिसाब से ही होगा। लेकिन ध्यान रहे कि इसे हर महीने डालें। इनडोर प्लांट्स को कम मिट्टी में ही सारे न्यूट्रिएंट्स चाहिए होते हैं और वो ऐसे ही किया जा सकेगा।

5. इस समय दें पौधों को पानी-

पौधों को पानी देने का समय भी सही होना चाहिए। अगर आप पौधों में शाम को पानी डालते हैं तो कम धूप के कारण वो रात भर पानी से भरे रहेंगे। ऐसे में उनकी जड़ें सड़ सकती हैं। इनडोर प्लांट्स की जड़ें वैसे भी कमजोर होती हैं इसलिए उन्हें सुबह पानी देना बेहतर होगा। अगर आपने छोटी सी बालकनी जैसे हिस्से में पौधे लगा रखे हैं तब तो शाम को पानी देने से बचिए। छोटी जगह में पानी इकट्ठा होने से उस जगह से मच्छरों के आने की संभावना बढ़ जाएगी।

साथ ही अगर आपके पौधे की पत्तियां ज्यादा बड़ी हैं तो इसमें ज्यादा पानी की जरूरत होती है। इनमें भी सीधे पानी न डालें या तो वॉटरिंग कंटेनर ले लें या फिर प्लास्टिक की बोतल से भी आप पानी डाल सकती हैं। प्लास्टिक की बोतल से पानी डालने के लिए आप इसके ढक्कन में छोटे-छोटे छेद कर दें और फिर उनकी मदद से पौधों को पानी दें। इससे पानी का प्रेशर एकदम से प्लांट को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएगा।

ये सभी टिप्स इनडोर प्लांट्स के लिए बहुत काम की साबित हो सकती हैं। अगर आपके पास छोटा सा गार्डन है तो ये टिप्स जरूर आजमाएं आपके पौधे बढ़ने लगेंगे। ऐसी ही अन्य टिप्स के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.