केसर की खेती | Kesar ki kheti in hindi

0
65

केसर एक विशेष प्रकार का मसाला है जो अपनी रंग खुशबू और अपने औषधीय गुणों के लिए काफी फेमस है। यह बेहद कम जगहों पर पाया जाता है और काफी महंगा होता है। इसे कोई मीठी रेसिपी बनाने में इस्तेमाल किया जाता है जिससे उस रेसिपी का स्वाद चौगुना बढ़ जाता है। इसके अलावा दूध में भी केसर डाल कर पीने का चलन है जो स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है। रोजाना केसर दूध पीने से कई तरह की बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। भारत देश मे केसर के बाजार में बहुत अधिक मूल्य है क्योकि एक ग्राम केसर बनाने के लिए बहुत सारे फूलो का उपयोग किया जाता है. इसलिए इसकी कीमत बहुत अधिक है. केसर खाने से मनुष्य के शरीर को कई फायदे मिलते है. ज्यादतर लोग इसका उपयोग अपनी त्वचा कि चमक बढाने के लिए करते है. गर्भवती महिलाओं के लिए केसर वाला दूध अधिक फायदेमंद होता है तो आज हम केसर की खेती के विषय में कुछ जरूरी जानकारी पर चर्चा करेंगे ।

केसर की खेती | Kesar ki kheti in hindi – Saffron Cultivation in India: Discover How to Grow Saffron in India

केसर के फ़ायदे – Health benefits of kesar

केसर के सेवन से वजन कम होता है। केसर का सेवन करने से आपके बार-बार भूख लगने की इच्छा पर कंट्रोल होता है। ऐसे में आपको बार-बार खाने की जरूरत नहीं पड़ती जिसके कारण आपका वजन नहीं बढ़ता है। यह तनाव से भी हमें दूर रखता है। केसर त्वचा व बालों के लिए भी है बेहद फायदेमंद। केसर वाला फेस पैक लगाने से त्वचा ग्लो करने लगती है। केसर हमारी त्वचा को टैनिंग व मुंहासो से लड़ने में मदद करती है। इसके इस्तेमाल से त्वचा मुलायम और चमकदार होती है। पीरियड्स से पहले होने वाले दर्द से भी केसर राहत दिलाता है। पीएमएस यानि प्री मेन्सट्रुअल सिंड्रोम के लक्षणों को भी कम करने में मदद करता है केसर। जैसे पेट दर्द, सिर दर्द, मूड स्विंग जैसी समस्याओं से राहत दिलाता है।केसर खाने से शरीर का इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। इसमें विटामिन सी भी पाया जाता है जिससे हमारा शरीर कई तरह की बीमारियों से लड़ने में मददगार होता है। केसर का सेवन पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है। इसमें औषधीय यौगिक और anti-convulsant गुण होते हैं। यह आपके लीवर को मजबूत और बेहतर काम करने में मदद करता है। केसर में अधिक मात्रा में आयरन भी पाए जाते हैं, जिसकी मदद से हीमोग्लोबिन बढ़ता है। प्रेग्नेंट महिलाओं को डिलीवरी का टाइम आते-आते पेट में दर्द होने लगता है। गर्भ में पल रहे बच्चे में कई प्रकार के बदलाव होते हैं जिसके कारण शरीर में भी बदलाव होने लगते हैं इससे दर्द होता है। ऐसे में केसर का सेवन इस दर्द से राहत दिलाता है और आराम देता है। आर्थराइटिस के इलाज में भी केसर फायदेमंद होता है।

केसर के साइड इफेक्ट –

प्रेग्नेंसी में केसर का सेवन करने के कई साइड इफेक्ट भी हैं। कुछ महिलाओं का प्रेग्नेंसी के दौरान केसर खाने से जी मिचलाने लगता है और उनका मुंह सूखने लगचा है। उन्हें बेचैनी सा एहसास होने लगता है। बार-बार उल्टियां आती है और आपने जो पोषक तत्व से भरपूर फूड प्रोडक्ट खाए हैं वो सब बाहर आ जाता है जिससे आपको कमजोरी लगने लगती है । इसकी तासीर गर्म होती है। इसके सेवन करने से शरीर में गर्मी बढ़ जाती है जिससे गर्भाशय पर भी इसका असर पड़ने लगता है। इसलिए डॉक्टर भी सलाह देते हैं कि प्रेग्नेंसी के शुरुआती दिनों में केसर खाने से परहेज करना चाहिए इससे मिसकैरेज होने का खतरा रहता है। लीवर, किडनी, बोन मैरो की बीमारी से जूझ रहे मरीजों को केसर का सेवन नहीं करना चाहिए यह उनके लिए खतरनाक साबित हो सकता है। इनसोमनिया यानि अनिद्रा को भी दूर करने में केसर मददगार होता है। इसमें पाया जाने वाला क्रोसिन आंखों की नॉन रैपिड गति को कम करता है जो अच्छी नींद लाने में मदद करता है। नींद ना आने की वजह से कई बीमारियां भी होती है केसर खाने से इनका खतरा भी कम हो जाता है। यह दिमाग को स्वस्थ रखता है साथ ही याद्दाश्त को भी बढ़ाता है। अल्जाइमगर के मरीजों के लिए केसर काफी फायदेमंद होता है। इसके अलावा सिजोफ्रेनिया से ग्रसित मरीजों के लिए भी केसर काफी फायदेमंद होता है।

केसर की खेती के लिए उपयुक्त जलवायु –

केसर (क्रोकस साटिवस) को ठंडा, सूखा और धूप जलवायु पसंद है और समुद्र स्तर से ऊपर 1500 से लेकर 2500 मीटर ऊंचाई में बढ़ता है. ठंडा और गीला मौसम फूल आना रोकता है लेकिन माँ घनकंद की बेटी घनकंद की एक बड़ी संख्या में उत्पादन करने की योग्यता बढ़ जाता है. इसकी खेती औसत वर्षा 100 सेमी के क्षेत्रों में और जहां सर्दियों के दौरान कुछ बर्फ गिरता है वहाँ की जाती है।

भूमि का चयन व भूमि की जानकारी –

केसर की सबसे महत्वपूर्ण चीज़ ये है की आपको ध्यान रखना है की आप जिस भूमि पर केसर की खेती कर रहे है तो वह भूमि चिकनी, बलुई मिट्टी या फिर दोमट मिट्टी की हो जिसमे की पानी की निकासी आराम से हो जाये क्योकि अगर खेती में पानी का जमाव होगा तो फसल बर्बाद होने का भय रहता है क्योकि पानी के जमाव के कारण उसमे corms सड़ जाते है |

भूमि की तैयारी –

जैसा की हम सभी जानते है की अगर आपकी जमीन जितनी अधिक अच्छी होगी हमारी खेती उतनी ही ज्यादा उपजाऊ होगी इसके लिए आप केसर का बीज बोने से पूर्व ही अच्छी तरह से खेत को तैयार कर लेना चाहिए इसीलिए आप जुताई से पहले उसमे गोबर का खाद, नाइट्रोजन और फास्फोरस और पोटास इत्यादि से जुताई करदे |

रोपण का समय-

रोपण के लिए जुलाई से लेकर अगस्त के पहले हफ्ते तक इष्टतम समय है. मध्य जुलाई रोपण के लिए सबसे अच्छा समय है।

रोपण की विधि –

घनकंद 6-7 सेमी गहरी लगाया जाना चाहिए और 10 सेमी x 10 सेमी की दूरी को अपनाना चाहिए ।

बीज दर –

DIBBLING के लिए पंद्रह क्विंटल के घनकंद प्रति हेक्टेयर ।

प्रसारण –

केसर घनकंद के माध्यम से प्रसारित किया जाता है. पौधा बारहमासी है और केवल बड़े आकार के साथ 2.5 सेमी व्यास के ऊपर के घनकंद रोपण के लिए इस्तेमाल किये जा सकते हैं ।

खाद डालना –

अंतिम जुताई से पहले 20 टन गोबर की खाद प्रति हेक्टेयर मिट्टी में डालना चाहिए. 90 किलोग्राम नाइट्रोजन और 60 किलो प्रत्येकी फास्फोरस और पोटाश प्रति हेक्टेयर डालना चाहिए.

अंतर संस्कृति और निराई –

जंगली घास नियंत्रित करने के लिए दो से तीन कुदाल और निराई करना चाहिए.
केसर को पूरे दिन सूर्य की आवश्यकता नहीं है, लेकिन एक दिन में कम से कम सात घंटे चाहिए.जब वे अपने विकास के चरण में हैं उस वक़्त हर दूसरे दिन उन्हें हल्के से पानी देना चाहिए. उथले खेती की जरूरत है शरद ऋतु में ,जब पत्ते विकास उभरता हैं तो पौधों को कड़ा बंद करता है तो फिर उन्हें बाहर अधिमानतः एक जगह न केवल धूप में लेकिन कुछ आश्रय में सेट करना चाहिए. वे ठंड बहुत कुछ बर्दाश्त कर सकते हैं, तो सख्त बंद का एक लंबे समय तक आवश्यकता नहीं है. वसंत में, जब पत्ते वापस मरना शुरू होते हैं, तो अप्रैल में पानी देना रोकते हैं और ग्रीष्म ऋतु में पौधों को घर के अंदर ले आते हैं ।
शरद ऋतु में, वनस्पति की निद्रा टूट जाएगा और नई पत्तियों का आना शुरू हो जाएगा । जब पहली बार नई पत्तियों का उभरना शुरू हो जाता हैं पौधों को पानी देना चाहिए और उन्हें वापस बाहर स्थानांतरित करना चाहिए ।
बढ़ती केसर के सफलता का रहस्य है – कटाई. आप को वर्ष के सही समय पर पौधों पर दैनिक ध्यान रखना चाहिए और फसल तैयार है तो संतोषजनक परिणाम प्राप्त करने के लिए उस दिन ही आप को इसकी कटाई करना चाहिए ।

प्रत्येक फूल तीन स्टिग्मास् (फ़िलमेन्ट्स् या धागे) जो फूल की गले से लटकते दिखाई देते हैं पैदा करता है अगर स्टिग्मास् जो दिन फूल खुलता है उस दिन ही नहीं तो अधिक से अधिक अगली सुबह तक चुनी नहीं हैं, तो वे खराब होना शुरू हो जाते हैं.आमतौर पर, नए पत्ते सितम्बर पूर्व में आते हैं और अक्टूबर पूर्व से मध्य अक्टूबर तक फूल आते हैं ।
इसे भी पढ़ें – औषधीय फसल ईसबगोल की खेती | Isabgol farming
जब आप को नए खुले फूल मिल जाए, तो सुबह की ओस सुखने तक इंतजार करें या है और उसके बाद फूल की कटाई करें . कटाई करने के बाद फूल एक सुविधाजनक काम करने की जगह रखिए. चिमटी की एक जोड़ी ले लो और ध्यान से तीन लाल नारंगी फ़िलमेन्ट्स् या धागे निकाले और तोद्नना धागे सुरक्षित रखने के लिए (आदर्श एक छोटी बोतल) कंटेनर तैयार रखें ।

सभी बल्बों के फूल देने के बाद भी अपनी फसल देखते रहो यह हो सकता है कि तुम भाग्यशाली हो और दूसरा या कभी कभी तीसरा फूल भी रखें बल्ब से मिल सकता है .उन्हें भंडारण के लिए बोतलों में डालने से पहले कटाई धागे अच्छी तरह से सूखाना यह भी महत्वपूर्ण है. कुछ उन्हें धूप में सूखाते हैं (लेकिन अति सूक्ष्म धागे उड़कर दूर नहीं जाए इस तरह से उनकी देखभाल करना चाहिए) दूसरे गर्मी का उपयोग करते है जो की अगर यह कोमल धागों को शुष्क करने के लिए कुछ समय के लिए करते है तो ठीक है लेकिन यह उन्हें भुनने के लिए नहीं है ।

शायद सबसे आसान तकनीक उन्हें एक कागज तौलिया पर रखना है और उन्हें दूर नहीं उड़ने के लिए उन पर कांच की एक पत्तर या स्पष्ट प्लास्टिक रख दे और उन्हें थोड़ी देर के लिए एक धूप कोउन्टेर टोप् पर छोड़ दें. केसर बल्ब की आसानी से संख्यावृद्धि होता है. और हर कुछ वर्षों में विभाजित किया जा सकता है. जब बल्ब निद्रा तोड़ देता है तब सालाना संतुलित खाद की एक छोटी राशि डालना फायदेमंद होगा ।

सिंचाई :

बढती मौसम के दौरान इसे 2-3 सिंचाई की आवश्यकता है और यह वर्षा पर निर्भर करता है ।

फूल का समय :

अक्टूबर के पहले सप्ताह में फूल आना शुरू होता है और नवंबर के पहले हफ्ते तक जारी है. फूलों की कटौती आमतौर पर हाथ से सुबह में किया जाता है. फूल धूप में 3-4 दिन में पूरी तरह से सूख जाते हैं. फूल पूरी तरह सूख जाने के बाद तीन लंबे stigmas को हाथ से उठाया जाता है. कलंक के ऊपरी भाग जो रंग में लाल नारंगी है वह शाही केसर है. style के निचले भाग को भी लिया जाता है और इस की गुणवत्ता घटिया होता है और इस को mogra केसर बुलाया जाता है ।

कटाई और सुखाना

: फूलों की यांत्रिक कटाई से पर्णसमूह को नुकसान होगा और प्रतिस्थापन घनकंद का उत्पादन भी काफी कम होगा . सामान्य रूप से केसर के फूलों की कटाई सुबह के घंटे में हाथ से चुनकर करते हैं. काम लंबे समय तक और तुला मुद्रा में किया जाता है. कुछ वैक्यूम सिद्धांत पर आधारित मशीनों. की कोशिश की जा सकता है लेकिन यह उत्पाद की गुणवत्ता को प्रभावित नहीं करता है इस की देखभाल लिया जाना आवश्यक है. 1 हेक्टेयर भूमि के केसर से उत्पादित फूलों से स्त्रीकेसर अलग करने के लिए 90 दिनों की आवश्यकता है ।
इसे भी पढ़ें – मशरूम उत्पादन की प्रौद्योगिकी | मशरूम फार्मिंग का बिजनेस
अक्तूबर नवंबर के महीने में जब किसान व्यस्त केसर होते हैं तब इन श्रम दिनों की आवश्यकता है.आम तौर पर केसर तीन उच्छिष्ट में 4 दिन के अंतराल में अक्टूबर के अंतिम पखवाड़े से इकट्ठा करना शुरू किया जाता है. पंखुड़ी और पुंकेसर से style को अलग करने के लिए प्रयास जिसमें हवा के सुरंग के माध्यम से जिसमें अस्थिर चूषण पाइप जो कट फूल को विभिन्न भेंवर के द्वारा उजागर करता हैं किए गए हैं. एक सरलीकृत संस्करण में पंखा के द्वारा पंखुड़ी पुंकेसर से अलग होती है और फिर हाथ से या एक फ्लैट या बेलनाकार लोहे स्क्रीन के माध्यम से उसे अलग करते है, लेकिन इस ऑपरेशन को भी हाथ से पूरा किया जाना चाहिए. कश्मीर में आम तौर पर उत्पाद छाया में सुखाते है जो 8% की सुरक्षित नमी के स्तर तक उत्पाद सुखाने के लिए 27-53 घंटे लगते है उत्पाद सूखे के तहत किए ।

केसर की गुणवत्ता में गिरावट धीरे से सुखाने का परिणाम है. कश्मीर में डिजाइन और गढ़े सौर गर्म हवा dryers सुखाने के समय को 3-4 घंटे के लिए कम करते है और उत्पाद का रंगद्रव्य केंद्रीकरण जो ताजा केसर में पाया जाता है उसके बहुत करीब दिखाता है. खराब मौसम, मिट्टी और धूल से बचाने के लिए सौर केसर ड्रायर को नीचे तार के जाल साथ का सुखाने का एक ट्रे और एक छत होता है. गिलास से shielded और एक काले लेपित नालीदार जस्ती लोहे की चादर शोषक के साथ का सौर कलेक्टर प्राकृतिक संवहन के माध्यम से परिवेश के ऊपर हवा का प्रवाह बनाता है ।

ताजा केसर (1कि.ग्रा.) सुखाने के ट्रे में रखा जाता है और 8-10% की नमी सामग्री तक सुखने के लिए के लिए उसको 4-6 घंटे लगते है. इसकी अनुमानित लागत 6500 रुपये है. हॉट एयर Dryers बेदर्द मौसम और किसान को घर के अंदर उपयोग करने के लिए डिजाइन किए हैं. यह एक ट्रे ड्रायर है. 45 + 5 डिग्री सेल्सियस गरम हवा पूरक हीटिंग बिजली का, एलपीजी स्टोव या नरम कोक उपयोग कर के एक धौंकनी द्वारा परिचालित है. संशोधित गर्म हवा ड्रायर को प्रत्येक 1वर्ग मीटर आकार के चार सुखाने के ट्रे और 100 सेमी की चिमनी है. इस का शरीर thermally ऊर्जा संरक्षण पृथक की है. इस ड्रायर की कीमत लगभग 15000 रुपये है ।

उपज :

सूखे केसर की औसत उपज 2.5 किलो प्रति हेक्टेयर की है।
क़ेसर की खेती में लगने वाले रोग व उनकी रोकथाम –

कोर्म सड़ांध :

यह बदलती डिग्री की stunting ,पीली के साथ बेटी कोर्म की कम संख्या का कारण बनता है, इस प्रकार से यह yield को भी प्रभावित है. इसे रोकने के लिए स्वस्थ कोर्म को उगाना. रोपण के समय कोर्म 0.2% सस्पेन्शन carbendazim के पानी में 30 मिनट के लिए डुबाना चाहिए बाद में अक्टूबर और अप्रैल के दौरान उस 0.2% सस्पेन्शन carbendazim के पानी से ही मिट्टी को भिगाना चाहिए।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.