29 C
Lucknow
Sunday, June 13, 2021
Home AGRICULTURE राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (National ood security mission) योजना के बारे में...

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (National ood security mission) योजना के बारे में जाने

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (national food security mission) योजना (ओ0एस0/टी0बी0ओ0)
योजना का संचालन :- 

योजना वर्ष 2018-19 से क्रियान्वित की जा रही है। योजना के अन्तर्गत तिलहन कार्यक्रम एंव वृक्षजनित तेल कार्यक्रम संचालित है।

1- योजना की आवश्यकता :-
  •  प्रदेश की तिलहन सम्बन्धी आवश्यकताओं की पूर्ति एंव तिलहनी फसलों के क्षेत्र ।
  • उत्पादन तथा उत्पादकता में वृद्धि हेतु तथा वृक्षजनित तेलों के उत्पादन को प्रोत्साहन देना।
2- उददेश्य :-
  • प्रदेश में तिलहनी फसलों के क्षेत्र, उत्पादन एवं उत्पादकता में वृद्धि।
  • एग्रो क्लाइमेटिक जोन के आधार पर तिलहनी फसलों का क्षेत्र विस्तार।
  • प्रदेश की मांग के अनुरुप खाद्य तेलों की आवश्यकता की पूर्ति करना।
  • लघु एवं सीमान्त/अनुसूचित जाति/अनु0जनजाति/महिला कृषकों को इन फसलों के माध्यम से अधिक आय दिलाना।
  • तिलहनी फसलों के उत्पादन को प्रोत्साहित करने हेतु कृषकों को विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से सहायता उपलब्ध कराना।
  • बंजर भूमि, परती एंव अन्य अनुपयोगी भूमि का उपयोग कर तेलजनित वृक्षों के माध्यम से तेल उत्पादन में वृद्धि करना।
3- कार्यक्षेत्र :- 

तिलहन कार्यक्रम प्रदेश के समस्त 75 जनपदों में एंव वृक्षजनित तेल कार्यक्रम संचालित हैं । यह झांसी, ललितपुर, जालौन, हमीरपुर, महोबा, बांदा, चित्रकूट एंव हरदोई में संचालित है।

4- फन्डिंग पैटर्न :-

 60 प्रतिशत केन्द्रांश एंव 40 प्रतिशत राज्यांश।

5-कार्यक्रम हेतु कृषकों को दी जाने वाली सुविधाएं-
क्रसं० कार्यमद अनुमन्य अनुदान दर / देय सहायता
1
ब्रीडर बीज क्रय एवं उपयोग
ब्रीडर बीज के आई0सी0ए0आर0 द्वारा निर्धारित मूल्य का शत प्रतिशत अनुदान अनुमन्य है।
2
आधारीय बीज उत्पादन
10 वर्ष तक की अधिसूचित समस्त तिलहनी फसलों के आधारीय बीजों पर रू0 2500/-प्रति कुं० की दर से अनुदान अनुमन्य है । जिसमें 75 प्रतिशत प्रोत्साहन अनुदान सम्बन्धित कृषक को तथा 25 प्रतिशत अनुदान सम्बन्धित प्रोक्योरिंग ऐजेन्सी को हैन्डलिंग चार्ज तथा विधायन हेतु अनुमन्य है।
3
प्रमाणित बीज उत्पादन
उत्पादित प्रमाणित बीज के क्रय होने पर विगत 10 वर्ष तक की अधिसूचित समस्त तिलहनी फसलों रू0 2500 प्रति कुं० की दर से अनुदान अनुमन्य है । जिसमें 75 प्रतिशत प्रोत्साहन अनुदान सम्बन्धित कृषक को तथा 25 प्रतिशत अनुदान सम्बन्धित प्रोक्योरिंग ऐजेन्सी को हैन्डलिंग चार्ज तथा विधायन हेतु अनुमन्य है।
4
प्रमाणित बीज वितरण
15 वर्षो में अधिसूचित समस्त प्रजातियों पर मूल्य का 50 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 4000/-प्रति कुं० जो भी कम हो ।  तथा 10 वर्षो तक की अधिसूचित संकर प्रजातियों तथा तिल के प्रमाणित बीज पर मूल्य का 50 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 8000/- प्रति कुं० जो भी कम हो ।
5
फसल प्रदर्शन
फसल
अनुमन्य अनुदान दर
तिल मूल्य का 50 प्रतिशत या अधिकतम रू० 3000 प्रति हे०
मूँगफली मूल्य का 50 प्रतिशत या अधिकतम रू० 10000 प्रति हे०
सोयाबीन मूल्य का 50 प्रतिशत या अधिकतम रू० 6000 प्रति हे०
राई/सरसों मूल्य का 50 प्रतिशत या अधिकतम रू० 3000 प्रति हे०
राई/सरसों विद बी-कीपिंग मूल्य का 50 प्रतिशत या अधिकतम रू० 5000 प्रति हे०
अलसी मूल्य का 50 प्रतिशत या अधिकतम रू० 3000 प्रति हे०
सूरजमुखी मूल्य का 50 प्रतिशत या अधिकतम रू० 4000 प्रति हे०
क्रसं०
कार्यमद
अनुमन्य अनुदान दर
6
जी0आई0 बखारी वितरण
10 कुन्तल क्षमता की बखारी हेतु मूल्य का 25 प्रतिशत अधिकतम रू0 1000/- का अनुदान
7
आई0पी0एम0 प्रदर्शन
आई0पी0एम0 प्रदर्शन अन्तर्गत फामर्स फील्ड स्कूल एवं आई0पी0एम0 प्रदर्शन/प्रशिक्षण हेतु कुल रू0 26700 का अनुदान अनुमन्य है।
8
कृषक प्रशिक्षण/गोष्ठी
इस मद में रू0 24000/-(रू0 चैबिस हजार मात्र) प्रति प्रशिक्षण 30 कृषकों के 02 दिवसीय बैच हेतु अनुमन्य है।
9
प्रसार अधिकारी प्रशिक्षण
इस मद में रू0 36000/-(रू0 छत्तीस हजार मात्र) प्रति दो दिवसीय प्रशिक्षण में 20 अधिकारियों के बैच हेतु अनुमन्य है।
10
जिप्सम, सिंगल सुपर फासफेट एंव सल्फर आदि का वितरण
मूल्य का 50 प्रतिशत या अधिकतम रू0 750 प्रति हे0 जो भी कम हो की दर से अनुदान अनुमन्य है।
11
राईजोबियम कल्चर/पी0एस0बी0/जेड.एस.बी./माइकोराइजा वितरण/बायोफर्टीलाइजर
मूल्य का 50 प्रतिशत अथवा रू0 300 प्रति हे0 जो भी कम हो दर से कृषकों को अनुदान अनुमन्य है।
12
कृषि रक्षा रसायन/इन्सेक्टिसाइड्स/ सूक्ष्मतत्व / तृणनाशी
मूल्य का 50 प्रतिशत अथवा रू0 500 प्रति हे0 जो भी कम हो की दर से कृषकों को अनुदान अनुमन्य है।
13
एन0पी0वी0 वितरण
मूल्य का 50 प्रतिशत अथवा रू0 500 प्रति हे0 जो भी कम हो की दर से कृषकों को अनुदान अनुमन्य है।
14
कृषि रक्षा उपकरण
कृषि रक्षा उपकरण अनुमन्य अनुदान की दर
मानव चालित स्पे्रयर/डस्टर/फुटस्प्रेयर/ नैपसेक (आई0एस0आई0 मार्क) उपकरण के मूल्य का 40 प्रतिशत अथवा रूपये 600/-प्रति, तथा लघु/ सीमांत /अनु0 जाति/जन जाति के कृषकों एंव न्यूनतम 05 महिलाओं के समूह को मूल्य का 50 प्रतिशत अथवा रूपये 800/-प्रति उपकरण, जो भी कम हो
शक्ति चालित नैपसेक / पाॅवर स्प्रेयर (आई0एस0आई0 मार्क) उपकरण के मूल्य का 50 प्रतिशत अथवा रूपये 8000/-प्रति उपकरण, तथा लघु/ सीमांत /अनु0 जाति/जन जाति के कृषकों एंव न्यूनतम 05 महिलाओं के समूह को मूल्य का 60 प्रतिशत अथवा रूपये 10000/-प्रति उपकरण, जो भी कम हो
15
उन्नतशील कृषि यंत्र वितरण 
(क) शक्ति चालित- रोटावेटर/मल्टीक्राप थे्रसर/सीडड्रिल अन्य।
(ख) मानव चालित- वीडर, चिसलर, विनोइंग फैन अन्य।
ट्रैक्टर चालित कृषि यंत्र पर मूल्य का 40 प्रतिशत या अधिकतम रू0 50000/- जो भी कम हो तथा लघु/ सीमांत /अनु0 जाति/जन जाति के कृषकों एंव न्यूनतम 05 महिलाओं के समूह को मूल्य का 50 प्रतिशत अथवा रूपये 63000/-प्रति कृषि यंत्र, जो भी कम हो। तथा मानव चालित कृषि यंत्र पर मूल्य का 50 प्रतिशत अधिकतम रु0 8000 प्रति यंत्र की दर से अनुदान अनुमन्य होगा।
16
स्माल आॅयल एक्स्ट्रेक्शन यूनिट
मूल्य का 50 प्रतिशत अधिकतम रु0 60000 प्रति यूनिट की दर से अनुदान अनुमन्य होगा।
17
स्प्रंकलर इरीगेशन वितरण
रू0 10000 प्रति हे0
18
सिंचाई जल को स्रोत से खेत तक ले जाने हेतु पाइप का वितरण
मूल्य का 50 प्रतिशत अथवा रू0 50 प्रति मीटर की दर से एच0डी0पी0ई0 पाइप, रू0 35 प्रति मीटर की दर से पी0वी0सी0 पाइप तथा रू0 20 प्रति मीटर की दर से एच0डी0पी0ई0 लेमिनेटेड फ्लैट ट्यूब पाइप पर अधिकतम रु0 15000 जो कम हो।
19
डीजल पम्प सेट
मूल्य का 50 प्रतिशत अधिकतम रू0 10000/- का अनुदान कृषकों को अनुमन्य होगा।
20
तिलहन मेला
रु0 100000 प्रति मेला
21
बंजर, परती एंव अनुपयोगी भूमि पर नर्सरी एंव पौधरोपण
नीम हेतु रु0 17000 प्रति हे0 एंव महुआ हेतु रु0 15000 प्रति हे0 अनुदान
22
पौधों के रखरखाव पर व्यय
नीम हेतु रु0 2000 प्रति हे0 (05 वर्ष) एंव महुआ हेतु रु0 2000 प्रति हे0 (08 वर्ष) हेतु अनुमन्य।
23
इन्टर क्रापिंग (सहफसली खेती)
वृक्षजनित तेल के साथ तिलहनी एंव अन्य फसलों की इन्टर क्रापिंग (सहफसली खेती) हेतु रु0 1000 प्रति हे0 अनुदान।

 

Kheti Gurujihttps://khetikisani.org
खेती किसानी - Kheti किसानी - #1 Agriculture Website in Hindi

1 COMMENT

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

सरसों की खेती का मॉडर्न तरीका

लेखक - कमल कृपाल सरसों की खेती ( sarso ki kheti ) का तिलहनी फसलों में बड़ा स्थान है । तेल उत्पादन का एक बड़ा...

भिंडी की जैविक खेती कैसे करें

लेखक - कमल कृपाल भिंडी की खेती (bhindi ki kheti ) पूरे देश मे की जाती है। भिंडी की मांग पूरे साल रहती है ।...

101 सब्जियों के हिंदी और अंग्रेजी में नाम 101 Vegetables Name

लेखक - कमल कृपाल 101 सब्जियों के हिंदी और अंग्रेजी में नाम 101 Vegetables Name in Hindi and english शायद ही आपने सुना होगा ।...

लाल भिंडी की उन्नत खेती (Lal Bhindi Ki Kheti)

लेखक - कमल कृपाल Lal Bhindi Ki Kheti - Red Okra Lady Finger Farming - Okra Red Burgundy लाल भिंडी की खेती (Lal Bhindi Ki...

Recent Comments

%d bloggers like this: