पादप सुरक्षा प्रबन्धन : सफेद मक्खी, माहूँ जैसिड थ्रिप्स कीटों का क्राइसोपर्ला जैव कीटनाशी द्वारा नियंत्रण

0
480

पादप-सुरक्षा प्रबन्धन सफेद मक्खी, माहूँ जैसिड थ्रिप्स कीटों का जैव कीटनाशी द्वारा नियंत्रण (White fly, month-old jade thrips control of insects by bio-insecticide)

 

पादप सुरक्षा प्रबन्धन : सफेद मक्खी, माहूँ जैसिड थ्रिप्स कीटों का क्राइसोपर्ला जैव कीटनाशी द्वारा नियंत्रण
पादप सुरक्षा प्रबन्धन हेतु कीटों के कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं जिनकी जानकारी रखना किसानों के लिए बेहद आवश्यक है । किसान भाइयों क्राइसोपर्ला नामक हरे कीट जिनकी लम्बाई से 1.3 सेमी० ०पंख लम्बे हल्के रंग के पारदर्शीसुनहरी आंखे तथा एन्टिना धारक होते हैके लार्वा सफेद मक्खीमाहूँ जैसिड थ्रिप्स आदि के अंडो तथा लार्वा को खा जाते हैको प्रभावित खेतों में डाला जाता है,पादप सुरक्षा प्रबन्धन हेतु कीटों के जीवन चक्र जानना बेहद आवश्यक है । इनका जीवन चक्र निम्न प्रकार है:-
अंडा अवधि
3-4 दिन
लार्वा अवधि
11-13 दिन
प्यूपा अवधि
5-7 दिन
व्यस्कता
35 दिन
अंड क्षमता
300-400 अंडे
क्राइसोपर्ला के अंडों को कोरसियरा के अंडों के साथ लकड़ी के बुरादे में बाक्स में आपूर्ति किया जाता है। इनके लार्वा कोरसियरा के अंडो को खाकर वयस्क बनते है। विभिन्न फसलों में क्राइसोपर्ला के 50000 से  100000 लार्वा या  500 से 1000  वयस्क प्रति हेक्टर डालने से कीटो का नियंत्रण भली प्रकार से होता है। सामान्यतः दो बार इन्हें छोड़ना चाहिए।
क्राइसोपर्ला के अंडों को 10 से 15 डिग्री से पर रेफ्रीजेरेटर में 15 दिनों तक रखा जा सकता है। सामान्य तापमान पर इनका जीवन चक्र प्रारम्भ हो जाता है |

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.